Archive for February, 2016

February 4, 2016

परिधि के पार जो लक़ीर है
उस लक़ीर पर खड़ा हूँ
इस तरफ़ अंधकार है
उस पार क़ुछ है ही नहीं।

 

Advertisements