poetry collage…

Off I go, Out of the woods
towards the hill, where moon resides
O Sun, when you rise tomorrow
You will have a dull day at work
For I wont be there to greet you anymore…!!!
———————————————————————————————–
कुछ न कहना हम सीख जायेंगे
ख़ामोशी की जबां तुम सीख जाओगे
वक़्त अपनी रफ़्तार तो न बदलेगा
इसके साथ कुछ जख्म सूख जायेंगे
कुछ के साथ हम रहना सीख जायेंगे
खुल के हंसना तो नहीं मुमकिन
छुप के रोना शायद सीख जायेंगे

———————————————————————————————–
सच ही तो है
ये जो तुमने कहा
सच ही तो है

दिल मेरा यूँ जो
कट के गिरा
सच ही तो है
ये जो तुमने कहा

जो हम कह पाते
क्या है दर्द-ए-दिल
जो तुम सुन पाते
क्या है अनकहा

तो क्यूँ कहते तुम
वो जो है कहा
क्यूँ मैं यूँ रोता
उसपर जो है कहा

सच ही तो है
ये जो तुमने कहा
सच ही तो है

———————————————————————————————–
some say I am intelligent, I think I am genius
some say I am witty, I think I am hilarious
some say I am sensitive, I think I am adorable
some say I am humble, I think I am bored
Rest say, You little moron and I say.. “How the hell did they find out…”

————————————————————————————————-

अबकि जो उड़ा है मन, तो ना जाने किस मोड़ पे ठहरेगा
किसी शाख़ पे बैठेगा या किसी राह पे गिरेगा

एक हाथ सा बढ़ाया किसी ने, एक अहसास सा कराया किसी ने
सर घुटनों में दबा बैठा था, जब नाम ले बुलाया किसी ने
————————————————————————————————-

ग़ालिब निकले थे घर से बाहर सूखते कपड़े उतारने
दुनिया ने मदद यूँ की, जो पहने थे वो भी उतार दिए

हमने उर्दू में शेर सुनाया, तो वो कहने लगे ‘यू आर क्रेजी’
भाई हमने तो यूँ ही कह दिया कुछ, आप तो मारने लगे अंग्रेजी

नाती बना दिया खाम-खां में हमें ग़ालिब का,
ग़ालिब भी परेशान हैं, मेरे दादा भी नाराज़ हो गए

हमने उनसे कहा की हम बेसहारा हैं,
तो वो बोले सहारा की फ्लाईट शाम को है

हैं वो कुछ जुदा से और थोड़े से गुमशुदा से,
जाके उन्हें बुला दो, वरना मिल जायेंगे हम खुदा से

वो हमसे पूछते हैं की ये वफ़ा कौन है,
तुम ही उन्हें बता दो की हम बताएं क्या

ये हुस्न ये बदन ये जवानी की महक, चार दिन रहेगी
मेरी आशिकी में रंग के देख, उम्र भर साथ देगी

तेरा बुढ़ापा तुझे साथ दे रहा है बचपन से
तू किस-किस के बचपन को जोड़ेगा अपने पचपन से

माना थोडा संग दिल है, सीने में फड़कते जज़्बात नहीं..
पर आप बुलाएं हम ना आयें, ऐसे भी बुरे हालात नहीं..

कुछ उन्होंने आज़माया नहीं, कुछ हमने बताया नहीं..
कुदरत भी कुछ अज़ीब है, कभी उसने मिलाया ही नहीं..

कुछ उन्होंने आज़माया नहीं, कुछ हमने बताया नहीं..
दोनों तरसते रह गए, तक़दीर ने मिलाया ही नहीं

कह दिया उन्होंने हमको बिहारी, लग गयी बात दिल को ये भारी..
भाई सरयू-तीरे रहते हैं, हम हैं लखनऊ की उम्दा कलाकारी..
————————————————————————————
कभी सोचता हूँ मैं कुछ कहूं
कभी सोचता हूँ मैं चुप रहूँ

कभी सोचता हूँ थोड़ा इंटेलिजेंट लगूं
फिर सोचता हूँ जो हूँ वो क्यूँ बनूँ

ये भी सोचा एक बार की कुछ शायर सा बनूँ
कोशिश कर भी ना बन पाया तो क्या करूं

फिर कुछ सोचा फिर और भी सोचा
सोचते सोचते ना सोचने का भी सोचा

सब सोच कर फिर कुछ कर गुजरने का सोचा
कर गया जो सब तो कुछ ना करने का भी सोचा

बहुत दिन हुए मैंने कुछ भी नया है ना सोचा
मैं खुश हूँ या गुम हूँ ये भी है ना सोचा

मैं खुश तो हूँ पर नहीं भी हूँ शायद
क्यों सर खपाऊँ है ये बेकार की कवायद

मैं चलता हूँ मद-मस्त जैसे चलता है चक्का
बिना सोच कर भी लगता है कुछ सोचा है पक्का…

———————————————————————

if the game sucks I will play it
if it pays too well i will chuck it
I want everything but need nothing
cant say what but will be something

if you can like me I will love you back
if you hate me i will hold you and ask why
if you look at me and turn away I will cry
and I will do so till they run dry

when I chose to run will run too fast
I may not be first but will never be last
(poem not complete yet.. )

————————————————————————-

Sometimes I am an idiot
Often I am a gadha
to find me is easy
just see near the drain,
I must be somewhere close by
seedha ya ulta padha

——————————————————————————————————
मजबूरी को हमने अपना मुक़द्दर बना लिया
रात भर की बेग़म को हमसफ़र बना लिया

दिल जो भी कहे बस करे जाओ
जिस राह को कहे बस चले जाओ
मर जाने को भी कह देगा ये अक्सर
कीमत है ये तो बस, भरे जाओ

कुछ लोग यूहीं हंस लेते हैं
जाने कैसे खुश हो लेते हैं
दाँतों के मोती जब चाहे
अनायास यूहीं बिखराते हैं

अनगढ़ अनकट जो हीरा है
उससे कब किस ने प्यार किया
छन छन छल छल
चिंतन चितबल
तेरी हर एक निगाह
ने वार किया
वो रोता रहा
कुछ खोता रहा
झूठों से सच को
भिगोता रहा
पर शीशे पर
पानी बोलो
कभी कहाँ
टिक पाया है
———————————————————
बाकी हैं अभी सिरे कुछ जोड़ने को
बाकी हैं अभी पत्थर कई तोड़ने को
न जुड़ सके जो ये सब आपस में
काम आयेंगे अपना सर फोड़ने को

मैं दुनिया से दूर कहाँ
दुनिया मुझे अनजान सही
कोई दर्द शिकायत शिकवा नहीं
खाली था सोचा परेशान सही

————————————————————

इस पार से उस पार की ज़िन्दगी, कभी समझ न आएगी
उस पार जाकर इधर की ज़िन्दगी कभी रास न आएगी

मौके पर जो हाथ न आये
तन्हाई में पास न आये
सब छूटे तो साथ न आये
व्यर्थ है वो गर मिल भी जाये
———————————————————–
मार छैनी मूरत बने, माटी आपहि लेवे स्वरुप
भेद ना जाने मूरख है, पहचाने ना गुण धूप

————————————————————
पकड़ते पकड़ते कब छूट जाती है
मनाते मनाते कब रूठ जाती है
सिमटते सिमटते कब टूट जाती है
ज़िन्दगी, पता नहीं चलता
————————————————————-
डूबता था जब में, तो किसी को उतराता ना लगा
जो उतर आया हूँ तो कहते हैं, डूबते ही कब थे
————————————————————-
एक मुश्त आसमां ही तो माँगा था ए आसमां वाले
किस्मत मेरी संवर जाती जहाँ तेरा न घट जाता

जहाँ खुशियों का चाहा था ग़म समंदर का दे दिया
संग दिल है तू और हैं बद-नियत तेरे जहाँ वाले
————————————————————-
दिल को फिर अरमानों के महल में खोने देते हैं
जो ना हुआ ना सही जो हो सकता है उसे होने देते हैं
कई रातों को जाग जाग कर कुरेदा है जिन जख्मों को
उनको कुछ एक रात तन्हाई में सोने देते हैं
—————————————————————-
हर मर्ज़ की एक दवा है
हर दर्द के लिए दुआ है
तड़प खुद अपना इलाज़ है
रोग कुछ ऐसा हुआ है

शोहरत मिल जाएगी हमको
मोहब्बत हो जाएगी हमको
देर कमबख्त ने इतनी लगा दी
हसरत क्या बाकी रह जाएगी हमको
—————————————————————–

I am waiting for love
my lines are all corny
my thoughts are all porny
but I know beneath it all
is sitting stoutly
my lust for love

———————————————————————————-
तब दिमाग पे शुबहा था, अब दिल की दिक्कतें हैं
लगेगी इक उम्र उबरने में, बड़ी गहरी नादानी है
———————————————————————————-

कितनी दूर निकल आया हूँ

कितनी दूर चला आया हूँ

———————————————————————————–

चिड़ियाघर में हमने इस बार एक अजीब परिंदा देखा है
खुद उड़ कर कहीं जाता ही नहीं, कहता है हम पे फंदा है

——————————————————-

I reached nowhere
by doing things right
even doing them wrong
couldn’t fix them alright

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: